logo
Latest

उत्तराखंड मूल के चीफ जस्टिस सुधांशु धूलिया बने सुप्रीम कोर्ट के जज


नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट के 2 नए जजों की नियुक्ति पर मुहर लगा दी है। गुवाहाटी हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस सुधांशु धूलिया और गुजरात हाईकोर्ट के जज जमशेद बी पारदीवाला को जज के तौर पर नियुक्त किया गया है। जस्टिस पारदीवाला सुप्रीम कोर्ट में नियुक्त होने वाले चौथे पारसी होंगे। सुप्रीम कोर्ट में 5 साल बाद किसी अल्पसंख्यक समुदाय के जज की नियुक्ति हुई है। वहीं, जस्टिस धूलिया उत्तराखंड हाई कोर्ट से सुप्रीम कोर्ट पहुंचने वाले दूसरे जज होंगे। CJI एनवी रमना, जस्टिस यू यू ललित, जस्टिस ए एम खानविलकर, जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एल नागेश्वर राव की कोलेजियम ने देश के अलग- अलग हाईकोर्ट में रिकॉर्ड 10 नए मुख्य न्यायाधीशों की नियुक्ति की सिफारिश की थी। यह सिफारिश अगस्त 2021 में की गई थी।

चीफ जस्टिस सुधांशु धूलिया जी का परिचय

न्यायमूर्ति धूलिया का जन्म 10 अगस्त, 1960 को लैंसडाउन, पौड़ी गढ़वाल जिले के गांव मदनपुर पट्टी लंगूर मल्ला निवासी में हुआ था और उनकी प्रारंभिक शिक्षा देहरादून और इलाहाबाद में हुई थी. वह सैनिक स्कूल, लखनऊ के पूर्व छात्र हैं और उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक और कानून की डिग्री ली है. दूसरी पीढ़ी के कानूनी पेशेवर, न्यायमूर्ति धूलिया 1986 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय में बार में शामिल हुए और 2000 में नए राज्य उत्तराखंड के के गठन पर अपने गृह राज्य में प्रैक्टिस करने चले गए. ।

वह उत्तराखंड उच्च न्यायालय में पहले मुख्य स्थायी वकील थे और बाद में उत्तराखंड राज्य के अतिरिक्त महाधिवक्ता भी नियुक्त हुए थे. उन्हें 2004 में वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में नामित किया गया था. उन्हें नवंबर 2008 में उत्तराखंड के उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया था और बाद में 10 जनवरी 2021 को असम, मिजोरम, नागालैंड और अरुणाचल प्रदेश के उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने.। सुधांशु धूलिया पूर्व में नैनीताल हाईकोर्ट के जज भी रह चुके हैं।

जस्टिस धूलिया के दादा स्व.भैरव दत्त धूलिया स्वतंत्रता सेनानी, पत्रकार और लेखक रहे। कर्मभूमि पत्रिका का उन्होंने संपादन किया। पिता केशवचंद्र धूलिया जी इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायाधीश रहे। 1985 में न्यायाधीश पद पर रहने के दौरान ही उनकी मृत्यु हुई थी। वह एक लेखक के रूप में भी जाने गए।उनके चाचा स्व. शरद चंद्र धूलिया कर्मभूमि साप्ताहिक अखबार के सम्पादक रहे। जस्टिस धूलिया की माता रिटायर शिक्षिका है और देहरादून में निवास करती हैं। उनके बड़े भाई पूर्व नेवी अधिकारी आशु धूलिया दून के एक विवि में रजिस्ट्रार पद पर हैं जबकि छोटे भाई तिग्मांशु धूलिया जाने माने फिल्म निर्देशक हैं ।

यह भी पढ़ें: युवा प्रधान ने साल भर में ही बदल दी गांव की तस्वीर।

गढ़वाल क्षेत्र से उच्च न्यायालय के जज पद पर पूर्व में तीन या चार न्यायविद पहुंचे हैं। जिनमें विजय बहुगुणा जी, तारा दत्त उनियाल जी एवं जेपी सेमवाल जी भी शामिल हैं।

TAGS: No tags found

Video Ad



Top