logo
Latest

शंकर नेत्रालय के संस्थापक डॉ एस एस बद्रीनाथ का निधन


प्रधानमंत्री ने नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. एसएस बद्रीनाथ के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया

नई दिल्ली : देश के जाने माने नेत्र चिकित्सक व संस्थापक और प्रख्यात विट्रो रेटिनल सर्जन एस.एस. बद्रीनाथ का मंगलवार को निधन हो गया। 83 वर्षीय बद्रीनाथ कुछ समय से बीमार थे। अस्पताल के एक सूत्र ने यह जानकारी दी। अस्पताल के सूत्र ने बताया कि 83 वर्षीय डॉ बद्रीनाथ ने अपने आवास पर अंतिम श्वांस ली। चेन्नई में जन्मे बद्रीनाथ के परिवार में उनकी पत्नी बाल रोग विशेषज्ञ डॉ वसंती बद्रीनाथ और दो बेटे अनंत एवं शेषु हैं।

डॉ एस एस बद्रीनाथ

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री ने एक्स पर पोस्ट किया। लिखा-दूरदर्शी, नेत्र विज्ञान के विशेषज्ञ और शंकर नेत्रालय के संस्थापक डॉ. एस.एस. बद्रीनाथ जी के निधन से गहरा दुख हुआ। नेत्र देखभाल में उनके योगदान और समाज के प्रति उनकी अथक सेवा ने एक अमिट छाप छोड़ी है। उनके कार्य पीढ़ियों को प्रेरित करते रहेंगे। उनके परिवार और प्रियजनों के प्रति संवेदनाएं।

अन्नाद्रमुक महासचिव एडप्पादी के पलानीस्वामी ने कहा कि बद्रीनाथ की समाज के प्रति चिंता के कारण उनकी संस्था कई लोगों को दृष्टि प्रदान करने में सफल रही। पलानीस्वामी ने एक बयान में कहा, ‘उन्होंने गरीबों को मुफ्त नेत्र चिकित्सा प्रदान की और अपना जीवन समाज की भलाई के लिए समर्पित कर दिया।आपको बता दें कि डॉ. एस एस बद्रीनाथ ने साल 1978 में चिकित्सा अनुसंधान प्रतिष्ठान के रूप में शंकर नेत्रालय की स्थापना की थी। उन्हें 1983 में पद्मश्री और 1999 में पद्म भूषण से नवाजा गया था।

TAGS: No tags found

Video Ad


Top