logo
Latest

सस्ते में उत्तराखण्ड घूमना है तो पहुंचें हिल स्टेशन “कानाताल”।


फैमिली ट्रिप के लिए सबसे बेहतरीन हिल स्टेशन है कानाताल।
गर्मियों के इस मौसम में इन पहाड़ की इन वादियों में मिलेगी राहत।

ब्यूरो/उत्तराखण्ड लाइव: यदि आप गर्मियों के इस मौसम में उत्तराखण्ड आना चाहते हैं तो ऐसे में आपको हिल स्टेशन कानाताल राहत दे सकता है। यह खूबसूरत और शान्त वातावरण वाला हिल स्टेशन है। जिसके बारे में पहले बहुत कम लोग जानते थे लेकिन अब धीरे—धीरे यह हिल स्टेशन पर्यटकों की पहली पसंद बनता जा रहा है। खासकर फैमिली वालों के लिए यह स्थान बेहतरीन है। अन्य हिल स्टेशन की तरह इस ओर ज्यादा भीड़ भाड़ नहीं होती। आप यहाँ शांति के साथ अपनी छुट्टियां बिता सकते हैं। कानाताल हिल स्टेशन की ऊंचाई समुद्र तल से 8500 फीट और (2590 मीटर) है।

इस स्थान से आप अपनी फैमिली के साथ खूबसूरत पहाड़ों का शानदार दृश्य देख सकते हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि यहॉ कैपिंग और होम स्टे दोनों सस्ते दामों में आपको मिल जाते हैं। यहॉ मौजूद प्राकृतिक दृश्य सच में आपके दिल को भीतर तक सुकून और शान्ति पहुंचाता है। कानाताल न सिर्फ अपने परिजनों के साथ के लिए बल्कि अपने दोस्तों के साथ के लिए एकदम सटीक स्थान है। कानाताल में आपको जगह—जगह नजर आएंगे वॉच टॉवर। जहां से आप उत्तराखंड के कही सारे प्रसिद्ध पर्वत शिखरों के दर्शन कर सकते हैं।

क्या है कानाताल की खासियत:—

  • सबसे पहले तो यह स्थान कैंपिंग के लिए प्रसिद्ध है।
  • गांव एवं जंगल के बेहतरीन ट्रेकिंग आपको यहॉ मिल जाएगी।
  • यह स्थान अपने घने और बहुमिश्रित जंगलों के लिए भी प्रख्यात है।
  • सबसे अधिक तो यहॉ हिमालय की पर्वत श्रृंखलाओं के दृश्यों के लिए प्रसिद्ध है।
  • भीड़—भाड़ से दूर अपने शांत और एकांत वातावरण के लिए।
  • इन सबसे अधिक यह स्थान अपने यहॉ होने वाले सेब की खेती के लिए प्रसिद्ध है।
  • छायाकारों के बीच यह स्थान अपने सूर्यास्त एवं सूर्योदय के लिए प्रसिद्ध है।

कानाताल में 25 दिसंबर के बाद से ही बर्फ गिरना शुरू हो जाती है और यह बर्फ 31 जनवरी तक गिरती रहती है। इस समय कानाताल पूरी तरह से सफेद बर्फ से ढका हुआ नजर आता है। प्रकृति के बीच असमान से गिरती बर्फ का नजारा किसी स्वर्ग से कम नहीं लगता।

कानाताल में घूमने की जगहें –
सुरकंडा देवी मंदिर :— सुरकंडा देवी मंदिर एक सिद्ध एवं प्रसिद्ध मंदिर है। कानाताल के पास से इस मंदिर की दुरी लगभग 10 किलोमीटर की है। यह मंदिर समूद्रतल से 2756 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। जिस कारण आप हिमालय के पर्वत शिखर को और करीब से देख सकते हो और यहां से दृश्य सच में बहुत खूबसूरत होता है, इस लिए आप यहां भी जरूर जाएं।

कौड़िया का जंगल – kaudia forest

कौड़िया का जंगल कानाताल के प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में से एक है। यह नगर क्षेत्र से दूर एकांत में मौजूद है। जिसकारण इसके बारे में आज भी ज्यादा लोग नहीं जानते है। यह ट्रेक मात्र 6 किलोमीटर का है, जो कौड़िया के घने जंगल के बीचों बीच मौजूद है। यहॉ जंगल में आपको देवदार के पेड़ो की एक अलग ही खुशबू का एसास होगा यह खुशबू आपके मन को भी बहुत प्रफुल्लित करती है। और आपको एहसास कराती है, की आप प्रकृति के कितने करीब हो। इस जगह पर अभी तक ज्यादा पर्यटक नहीं गए है। कानाताल

यह भी पढ़ें:किसी भी आयुवर्ग की महिलाओं को प्रभावित कर सकता है ब्रैस्ट कैंसर

धनोल्टी इको पार्क – यह एक Eco Park है जहॉ तरह—तरह के पेड़ मौजूद हैं। कानाताल से इस Eco Park की दूरी 86 किलोमीटर की है, लेकिन यह Eco Park आपके रास्ते में ही आता है। जब आप Mussoorie से कानाताल आते हो तब एक हिल स्टेशन आता है। Dhanaulti जैसे ही आप धनोल्टी में प्रवेश करेंगे सबसे पहले यह Eco Park ही आता है। Dhanaulti का यह Eco Park पिकनिक स्पॉट के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है।

 कानाताल

टिहरी बांध – टिहरी बाँध दुनिया में सबसे ऊँचाई पर बनाया गया बाँध है। अंग्रेजी में कहें तो one of the tallest dams in the world and the tallest dam in India। टिहरी बांध 1,000 मेगावाट से अधिक बिजली प्रदान करता है, और यह उत्तराखंड में एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण भी बन गया है। और अब यह टिहरी झील के रूप में भी जाना जाता है, पर अब यहां बोटिंग भी होती जो लोग बोटिंग का शोक रखते है। उन लोगो के लिए यह जगह बहुत शानदार है। हिमालय की पहाड़ियों के बीच बोटिंग करते समय एक बहुत खूबसूरत दृश्य दिखाई देता है। जो आपको हमेशा याद रहेगा। और अब यह धीरे-धीरे उत्तराखंड में पर्यटन का एक प्रमुख केंद्र बनता जा रहा है।

 कानाताल

यह भी पढ़ें: उत्तराखंडः आवारा कुत्तों ने किया गुलदार का शिकार, क्षेत्र में दहशत…

TAGS: No tags found

Video Ad