logo
Latest

प्रधान जी की हुई तीन संतान, तो चली गई प्रधानगिरी।


गढ़वाल/उत्तराखंड लाइव: भिलंगना ब्लाक के सेम बासर गांव के प्रधान विक्रम नेगी को तीसरी संतान होने पर प्रधान के पद से हटा दिया गया। सेम गांव के ही एक ग्रामीण विकेंद्र सिंह ने इस मामले में जिलाधिकारी से शिकायत की थी, जिसके सही पाए जाने पर प्रधान को पद से हटाया गया है।

जांच में सही पाई गई शिकायत

शिकायतकर्ता विकेंद्र सिंह ने बताया कि वर्ष 2019 में विक्रम नेगी की दो संतान थी। उस दौरान पंचायत चुनाव में वह प्रधान पद पर निर्वाचित हुए। लेकिन वर्ष 2021 में विक्रम नेगी की तीसरी संतान भी हो गई। बेलेश्वर अस्पताल में तीसरी संतान होने का पूरा ब्यौरा है। इस मामले में विकेंद्र सिंह ने प्रशासन से शिकायत की थी, जिसके बाद जांच की गई और शिकायत सही पाई गई।

जिलाधिकारी के सामने नहीं हुए उपस्थित

इस मामले में जिलाधिकारी कार्यालय की तरफ से 18 जनवरी 2022 को प्रधान विक्रम नेगी को अपना पक्ष रखने का अवसर दिया गया, लेकिन वह अपना पक्ष रखने जिलाधिकारी के सामने उपस्थित नहीं हुए।

भिलंगना के खंड विकास अधिकारी सतीश बडोनी ने बताया कि पंचायती राज एक्ट के तहत अगर प्रधान निर्वाचित होने के बाद भी संबंधित व्यक्ति की कार्यकाल के दौरान तीसरी संतान हो जाए, तो वह पद पर नहीं रह सकता है। इसी के तहत यह कार्रवाई की गई है। 25 मार्च को जिलाधिकारी ने प्रधान विक्रम नेगी को पद से हटाने के आदेश जारी कर दिए हैं।

इधर, प्रधान विक्रम नेगी ने बताया कि जब उन्होंने पंचायत चुनाव लड़ा तो उनकी दो संतान थी, लेकिन उसके बाद पिछले साल उनकी तीसरी संतान हुई, जिसकी शिकायत ग्रामीणों ने प्रशासन से की थी, जो नियम है वह उन्हें स्वीकार है।

इवा आशीष श्रीवास्तव (जिलाधिकारी, टिहरी गढ़वाल) ने कहा कि ग्रामीण की शिकायत के आधार पर प्रधान की तीसरी संतान होने की जांच कराई गई थी, जो सही पाई गई। इसी आधार पर प्रधान को पद से हटा दिया गया है।

TAGS: No tags found

Video Ad



Top