logo
Latest

रोजगार कौशल की प्रासंगिकता और महत्व समझाया


चण्डीगढ़ (कुलदीप ध्स्माना) : सेक्टर 46 स्थित पोस्ट ग्रेजुएट गवर्नमेंट कॉलेज के अर्थशास्त्र विभाग ने फ्यूचर फॉरवर्ड-डिकोडिंग एम्प्लॉयबिलिटी स्किल्स विषय पर एक इंटरैक्टिव सत्र का आयोजन किया। इस सत्र का आयोजन महिलाओं के भारतीय वाणिज्य और उद्योग मंडल (डब्ल्यूआईसीसीआई) की प्रमाणित सॉफ्ट स्किल्स ट्रेनरों एंड इमेज कंसल्टेंट्स डॉ. पूनम सरन और सुश्री राहत द्वारा किया गया था।

रोजगार कौशल प्राचार्य डॉ. आभा सुदर्शन ने मुख्य वक्ता का स्वागत किया। सत्र एक आइसब्रेकर गतिविधि के साथ शुरू हुआ, जिसके बाद प्रतिभागियों को रोजगार कौशल की प्रासंगिकता और महत्व समझाया गया। सदी के प्रमुख रोजगार कौशल को सत्र में समझाया गया था। प्रतिभागियों ने कमजोरियों को दूर करने और ताकत के साथ लगातार बने रहने के तरीके पर गतिविधि का आनंद लिया। इसके अलावा, प्रतिभागियों को इस बारे में अंतर्दृष्टि दी गई थी कि उनका पहला रिज्यूमे कैसे संरचित और प्रभावशाली बनाया जा सकता है। अर्थशास्त्र की एचओडी सुश्री वंदना ने डॉ. मनीषा गौड़ के साथ मिलकर इस कार्यक्रम का सफलतापूर्वक आयोजन किया।

यह भी पढ़ें: पार्किंग में वाहन फंसने अथवा आपातकालीन स्थिति में पार्की एप्प करेगा सहायता
इससे पहले रक्षा और सामरिक अध्ययन विभाग ने रूसा के सहयोग से नक्सलवाद: भारत की सुरक्षा के लिए खतरा पर एक विशेष व्याख्यान का आयोजन किया। इस अवसर पर केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के उप-कमांडेंट, केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल, केन्द्र सूचना प्रौद्योगिकी (सीआईटी), बंगलुरू (कर्णाटक) के विशाल वर्मा वक्ता थे। वर्मा ने विषय से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श किया और विषय पर प्रत्यक्ष रूप से जानकारी दी। प्राचार्य डॉ. आभा सुदर्शन ने भी छात्रों को इस मुद्दे से अवगत कराया और छात्रों को इस तरह के अधिक जानकारीपूर्ण व्याख्यानों में भाग लेने और अपने ज्ञान को अपडेट करने के लिए प्रोत्साहित किया। इस अवसर पर डीन डॉ राजेश कुमार, डॉ बलजीत सिंह व डॉ राजिंदर सिंह कौरा, कॉलेज की रूसा इंचार्ज अरविंदर कौर व कन्वीनर डॉ. कुलविंदर सिंह आदि भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: युवा प्रधान ने साल भर में ही बदल दी गांव की तस्वीर।

TAGS: No tags found

Video Ad


Top