logo
Latest

एम्स के आउटरीच सेंटर पर मरीजों को टेलीमेडिसिन सेवा जल्द:निदेशक एम्स


एम्स निदेशक ने बताया स्वास्थ्य जांच को जल्द लगेगी हेल्थ एटीएम मशीन

ऋषिकेश : एम्स, ऋषिकेश के सोशल आउटरीच सेल के तत्वावधान में स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए आयुष्मान भवः “सेवा पखवाड़ा“ के अंतर्गत कम्युनिटी आउटरीच सेंटर चंद्रेश्वर नगर ऋषिकेश में विभिन्न स्वास्थ्य एवं जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए।

सोशल आउटरीच सेल, एम्स ऋषिकेश द्वारा चंद्रेश्वरनगर, ऋषिकेश में आयोजित कार्यक्रम में आउटरीच कम्युनिटी सेंटर में एम्स की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर डॉ. मीनू सिंह ने आयुष्मान भव कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया ।

इस अवसर पर कार्यकारी निदेशक प्रो.मीनू सिंह द्वारा बताया गया कि आयुष्मान भवः “सेवा पखवाड़ा “कार्यक्रम का उद्देश्य कम्युनिटी को एनसीडी ( ग़ैर संचारी रोगों) के लिए स्वास्थ्य एवं जागरूकता सेवा मुहैय्या कराना है। साथ ही उन लोगों तक पहुंचना है जो सरकार द्वारा चलाई जा रही स्वास्थ्य से जुड़ी योजनाओं का लाभ नहीं ले पाते हैं। उन्होंने बताया कि एम्स के कम्युनिटी आउटरीच सेंटर को जल्द ही टेलीमीडिसिन सेवा से जोड़ा जाएगा, जिससे मरीजों को एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सकों से स्वास्थ्य परामर्श व प्रभावी उपचार उपलब्ध हो सके। उन्होंने बताया कि आयुष्मान भवः “सेवा पखवाड़ा “के अंतर्गत आउटरीच सेंटर में आम जनता के लिए स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें 100 से अधिक मरीजों की गैर संचारी रोगों के लिए स्क्रीनिंग की गई, साथ ही उनका सामान्य स्वास्थ्य परीक्षण, उपचार किया गया व उन्हें निशुल्क दवाएं उपलब्ध कराई गई। साथ ही नर्सिंग ऑफिसर्स द्वारा नुक्कड़ सभा के माध्यम से जनसामान्य को जागरुकता किया गया। इस दौरान उन्हें ,डेंगी के सेवन प्लस वन कार्यक्रम, निशुल्क चिकित्सा के लिए आयुष्मान कार्ड योजना से जुड़ने आदि संबंधी जानकारियां दी गई।

कार्यक्रम के दौरान आयुष्मान भारत योजना से वंचित 100 से अधिक लोगों को आयुष्मान कार्ड बनाने हेतु आवश्यक दस्तावेजों की जानकारी दी गई।


नोडल अधिकारी, सोशल आउटरीच सेल डॉ. संतोष कुमार ने बताया कि इस केंद्र के माध्यम से हम प्राथमिक स्तर पर मरीजों की बीमारी को आगे बढ़ने से रोकथाम के उपायों के साथ ही लोगों को संक्रामक और गैर संचारी रोगों के प्रति जागरूक मुहिम चलाई जाएगी। लिहाजा इसी उद्देश्य से इस क्षेत्र में कम्युनिटी आउटरीच सेंटर की स्थापना की गई है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में इस सेंटर के संचालन के लिए मां कात्यायनी माता मंदिर ट्रस्ट के संस्थापक गुरविंदर सलूजा की ओर से एम्स ऋषिकेश के आउटरीच सेल को यह स्थान उपलब्ध कराया गया है।
उन्होंने बताया कि आयुष्मान भवः “सेवा पखवाड़ा “के अंतर्गत आउटरीच सेंटर में आम जनता के लिए स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें 70 से अधिक मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण, उपचार किया गया व उन्हें निशुल्क दवाएं उपलब्ध कराई गई। साथ ही नर्सिंग ऑफिसर्स द्वारा नुक्कड़ सभा के माध्यम से जनसामान्य को जागरुकता किया गया। इस दौरान उन्हें ,डेंगी के सेवन प्लस वन कार्यक्रम, निशुल्क चिकित्सा के लिए आयुष्मान कार्ड योजना से जुड़ने आदि संबंधी जानकारियां दी गई। इस अवसर पर पखवाड़े के अंतर्गत संस्थान के यूरोलॉजी विभाग के डॉ. हर्षित ने अंगदान के बारे में लोगों को जागरुक किया और शपथ भी दिलाई।

डॉ. संतोष ने बताया कि आयुष्मान वार्ड/ ग्राम के अंतर्गत जल्द ही राज्य स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ मिलकर किसी भी वार्ड / ग्राम में एनसीडी के तहत ३० वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की स्क्रीनिंग की जाएगी व शत प्रतिशत स्क्रीनिंग के बाद उसे आयुष्मान वार्ड /ग्राम घोषित किया जाएगा ।
सेंटर की चिकित्साधिकारी डॉ. सिद्धि कोठियाल ने बताया कि डेंगी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए चंद्रेश्वरनगर, ऋषिकेश क्षेत्र में डेंगू सेवन प्लस वन कार्यक्रम के तहत लोगों को घर- घर जाकर इसकी जानकारी दी गई साथ ही कुछ स्थानों पर मिला डेंगी मच्छर के लार्वा को नष्ट कर दिया गया।

आयोजित कार्यक्रम में एम्स की डीएमएस डॉ. पूजा भदौरिया, चीफ नर्सिंग ऑफिसर रीटा शर्मा, डीएनएस वंदना, नर्सिंग ऑफिसर्स, एएनएम,आशा कार्यकर्ता, लैब टेक्निशियन, वरिष्ठ नागरिक कल्याण संगठन के पदाधिकारियों के अलावा एम्स सोशल आउटरीच सेल के प्रतिनिधि संदीप सिंह, हिमांशु गवाड़ी, त्रिलोक सिंह, स्वाति आदि मौजूद थे।

TAGS: No tags found

Video Ad


Top