logo
Latest

कर्णप्रिय भजनों ने श्रद्धालुओं को किया मंत्रमुग्ध: साप्ताहिक श्रीमद् भागवत कथा


समस्त पाप नाशनी, मोक्षदायिनी है श्रीमद् भागवतः सुरेश शास्त्री

चंडीग/  समस्त पापों का नाश श्रीमद् भागवत कथा के श्रवण से हो जाता है। यह मोक्षदायनी भी है। कई जन्मों के भाग्य जब उदय होते हैं तब हमारे जीवन में श्रीमद् भागवत कथा आती है। कथा के श्रवण से अनेक प्रकार की अज्ञानता दूर होती है और मनुष्य के जीवन में ज्ञान का प्रकाश होता है। यह प्रचवन कार्तिक मास के शुभ अवसर पर सुंदरकाण्ड महिला मंडली, चंडीगढ़ द्वारा सेक्टर 40 डी के मैदान में आयोजित साप्ताहिक श्रीमद्भागवत कथा के दौरान कथा व्यास सुरेश शास्त्री ने उपस्थित श्रद्धालुओं को दिए। कथा का आयोजन 3 दिसम्बर तक किया जाएगा।

कथा व्यास ने आगे कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत में सदैव सत्य का उपदेश दिया और सत्य का पालन करने को कहा। जो सत्य को धारण करते हैं वह सदैव भगवान की परम साधना व शरणागति को प्राप्त करते हैं। पांडवों ने भगवान श्रीकृष्ण के प्रत्येक शब्दों और उपदेशों का अनुसरण किया जिससे यह हुआ कौरवों की संख्या अधिक होने के बावजूद वह पाण्डवों से जीत नहीं पाए। महाभारत में भगवान ने सत्य धारण करने वालों का साथ दिया। उन्होंने बताया कि सत्य के समान कोई भी पुण्य नहीं और श्रीमद्भागवत के समान कलयुग में मोक्ष का कोई साधन नहीं है। इस अवसर पर कथा व्यास सुरेश शास्त्री ने भगवान के मधुर भजन भी गाए और श्रद्धालुओं मंत्रमुग्ध कर दिया।

कथा से पूर्व सुंदरकाण्ड महिला मंडली की प्रधान नीमा जोशी के नेतृत्व में समस्त श्रद्धालुओं ने मिलकर व्यास पूजन विधि विधान के साथ किया। कथा के उपरांत श्रीमद्भागवत की सामूहिक रूप आरती की गई।

इस अवसर पर मंडली की प्रधान नीमा जोशी ने बताया कि श्रीमद् भागवत कथा दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक 2 दिसंबर तक किया जाएगा, जबकि 3 दिसम्बर को प्रातः 9 बजे हवन कर पूर्णाहुति की जाएगी। इसी दिन कथा का समय प्रातः 10 बजे से दोपहर 1 बजे निर्धारित किया गया है।

TAGS: No tags found

Video Ad